Menu

स्टेशन पर कपड़े के बैग बेचने वाली मंजुला से सीखें बच्चों का लालन-पालन करना

SHARES
Share on FacebookShareTweet on TwitterTweet

मुम्बई के कांदिवली रेलवे स्टेशन के बाहर 37 सालों से अपने हाथों से बनाये कपड़ों के बैग बेचने वाली 77 साल की मंजुला की कहानी किसी फ़िल्म की कहानी से कम नहीं. 20 साल पहले अपने पति को खो चुकी मंजुला ने न सिर्फ़ घर की ज़िम्मेदारियों का बोझ संभाला बल्कि बच्चों को पढ़ा-लिखा कर एक कामयाब इंसान भी बनाया. उनकी एक बेटी बैंकर है और दूसरी बेटी मीडिया की पढ़ाई कर रही है.

458526709

अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए मंजुला कहती हैं कि “मेरे पति की आय इतनी नहीं थी कि वो बच्चों का पेट भर सके, इसलिये मैंने भी काम करने का फ़ैसला लिया. अपने पति के देहांत के बाद मैंने अपनी बच्चियों को पढ़ाया-लिखाया और उनकी शादियां भी की”. रोज़ाना 300 से 400 कमा लेने वाली मंजुला आगे कहती हैं कि “बहुत छोटी उम्र में ही मैंने पैसों की कीमत समझ ली थी. मेरा मानना है कि आदमी और औरत में कोई फ़र्क नहीं होता. फ़र्क केवल आदमी की मानसिकता में होता है. एक औरत भी हर वो काम कर सकती है, जो एक आदमी कर सकता है. मैं दिनभर आदमियों से घिरी रहती हूं और मुझे एक आदमी ने ही इस काम की शुरुआत करने का सुझाव दिया था. पर अब मेरी आंखों की रौशनी कम होती जा रही है और मुझे बस अब अपने काम की चिंता है”.

This article is curated from: iamin

Comments

comments